हिन्दी दिवस के मौके पर न तो मुझे हिन्दी पर दया आ रही है, और न मैं ये रोना रोने वाला हूं की हिन्दी का इस्तेमाल यहां नहीं होता, वहां नहीं होता.

असल में भाषा को मैं अभिव्यक्ति के साधन के अतिरिक्त कुछ नहीं मानता. शायद ये अत्यंत रेशनलिस्ट किस्म का नजरिया है, लेकिन मेरा मानना है की भाषा एक औजार है, इसका इस्तेमाल करना चाहिये बेहतर तरीके से खुद को अभिव्यक्त करने के लिये. सुंदरता से, और सटीकता से. इसके अतिरिक्त भाषा का क्या प्रयोजन हो सकता है?

आज इतने लेख दिखे. कुछ ने हिन्दी को दफना दिया, और दूसरों ने अंग्रेजी को गरियाया. इन्सानी फितरत है हर निज चीज़ के बारे में भावुक हो जाना. भाषा को अपना-अपना कह कर रोने का दिल मेरा तो नहीं करता, हालंकि हिन्दी पढ़ता हूं बहुत, लेकिन लक्ष्य हिन्दी पढ़ना नहीं होता, लिखे को पढ़ना होता है.

इसलिये हिन्दी की पैरवी नहीं करता, न उसके पाल्युशन पर रोना आता है. हिन्दी में अंग्रेजी शब्दों के मिक्सचर से विषाद नहीं होता. क्योंकि भाषा अभिव्यक्ति के लिये है, मेरे लिये है. मैं भाषा के लिये नहीं हूं.

वैसे भी भाषा कोई उथला तालाब नहीं है जो जस की तस बनी रहेगी. हिन्दी का भविष्य नहीं है. अंग्रेजी का भी नहीं है. भाषाओं को बदलना है. मैं क्यों परेशान करूं खुद को इसके लिये, जिसका स्वभाव ही बदलाव है?

इसलिये संदेश को मैसेज कहते में मुझे शर्म नहीं आती, पर्सनैलिटि को व्यक्तित्व कहने की जरुरत भी महसूस नहीं होती.

जो प्रचलित है, वही भाषा है. किसी भी चीज का प्रचलन जबरिया कराना आसान खेल नहीं है. अगर आपकी जिद है की आप ब्लाग को चिट्ठा कहेंगे तो कहते रहिये, जो शब्दार्थ पूछने की जहमत उठायेंगे वो आप को समझेंगे, बाकियों के पास समय कहां.

इसलिये प्रचलन का असम्मान यह कहकर नहीं करूंगा की इस पीढ़ी ने एक धरोहर नष्ट कर दी, या अंग्रेजी की गुलाम बन गयी, या जो भी आप कहते हों. अगर लोग मुझसे कहेंगे “हेई ड्यूड, कैसे हो?” तो इसका जवाब निश्चित ही “अत्य़ंत आनंद है मित्रवर” नहीं दूंगा. क्योंकि मेरा लक्ष्य अपनी ढपली बजाना नहीं, बात समझाना ही होगा.

हिन्दी में अंग्रेजी मिलाने के खिलाफ क्यों हैं आप? निश्चित मानिये ये संकर भाषा आपकी-मेरी शुद्ध भाषा से बहुत दिन ज्यादा जीयेगी.

वैसे भविष्य भी इन्टेग्रेशन (integration) का है. चाहे वो मानव नस्ल का हो, समाज का, सोच का, संस्कृति का, या भाषा का.

राज उसी का होगा जो उस संकरता को अपनायेगा, अपनी नस्ल या रूप शुद्ध रखने की कोशिश का नतीजा  पूर्ण विनाश (सम्पूर्ण विनाश) ही होगा. वर्ण संकरता, या भाषा संकरता डरने की चीज नहीं, सच्चाई है, और कुछ बुरी भी नहीं है.

पुरातन कबीलों को हक था संस्कृति में जकड़े रहने का, अपनी भाषा बनाने का, अलग-थलग साहित्य रचने का, क्योंकि वो सब सीमित था उन कबीलों तक. लेकिन आज सब संपूर्ण विश्व एक विशाल कबीला बनने की और अग्रसर है, तो एक homogenous समाज ही हो सकता है, निश्चित ही ये homogenousness भाषा पर भी लागू होगी.

जरूर इसमें कई भाषायें आज के स्वरूप के अनुसार नष्टप्राय ही हो जायेंगी. इसमें निश्चित ही हिन्दी नष्ट होगी, और अपवाद तो चीनी, फ़्रांसिसी, या फिर अंग्रेजी भाषा भी नहीं बनेंगी. वो भाषा जो इस विश्व की होगी कुछ नये से स्वाद की होगी. एक ऐसी भाषा जिसमें सारे स्वाद मिले होंगे.

वो भाषा न हिन्दी होगी, न अंग्रेजी, न कोई और. इसके संकेत तो सामने हैं… trends आंखों से दिखते हैं, कानों से सुनाई पड़ते हैं.

भाषा का भविष्य उसका इस्तेमाल करने वालों पर निर्भर है, ग्लोबलाइजेशन मांग रहा है इस एक विश्व के लिये एक ही भाषा, जिसका इस्तेमाल सभी करें जन्म, जाती, रंग और राष्ट्र से भी ऊपर उठकर.

Future of the language. An essay.

साड्डा सारे नानू ते मोटा भाइयों ते बहनों नूं परनाम!

मैं पेलो पटेल सूं जे पंजाब विच रैण के कारन आधा पंजाबी ते आधा गुजराती है गयो सूं. अज्ज त्वाडे ब्लाग जोइ जोइ के आ ब्लाग जगत मा साड्डा दिल वी शामिल होने दा करे छे. तमे मारा जोश बढान माटे एकाध टिप्पणी आ ब्लाग मा करि शकु?

वैसे मुझे हिन्दी भी आती है. और angrezi भी…

ये ब्लाग जगत हिन्दी का है, इसलिये आगे बातें हिन्दी में ही होंगी. अगर एकाध शब्द गुजराती या पंजाबी दा आ जावे तो मने माफ कर दित्त सी!

छोड़ आये हम, वो गलियां

वो मेरा देश, वो शहर
वो गलियां, वो मैदान, मेरे दोस्त, मेरा घर
कल ही तो छोड़े थे मैंने
फिर भी अनजान बने ऐसे जैसे बीती हो उमर.

वक्त के आंचल में सिमट गईं थीं यादें मेरी
ले गयी उनको बहाकर बदलने की लहर
अब आया हूं तो पाया कुछ नहीं वैसा
वक्त ठहरा नहीं जिस मोड़ पर गया था मैं ठहर